Popular Posts

Saturday, January 7, 2017

bulletin-73- samajvadi soanch ki nura kusti me akhiles ki pagari rasma.तथाकथित दिवंगत आत्मा यहाँ के संस्कार कर्म में सगे संबंधियों और समाज द्वारा वारिश या कर्ता को पगड़ी पहनाती है जबकि समागत (जीवित) आत्मा अपने वारिश/पुत्र को जिस अंदाज़ में स्वयं पगड़ी प्रदान कर पुत्र को सुशोभित करती है,आज आप लखनऊ में देख सकते हैं।

No comments:

Post a Comment