Popular Posts

Wednesday, July 12, 2017

नवगीत के प्रवर्तक ,कवि एवं साहित्यकार राजेंद्र प्रसाद सिंह अपने आप में एक साहित्यिक-सांस्कृतिक संस्था थे। उन्होंने मुजफ्फरपुर में अपनी प्रतिभा, मेहनत और लगन द्वारा एक ऐसा सकारात्मक माहौल तैयार किया, जिसके कारण बहुत सारे कवियों और साहित्यकारों का जन्म हुआ । मेरे गुरु , जनवादी कवि, नाटककार,रंगकर्मी, उपन्यासकार , एवं अखिल भारतीय जनवादी सांस्कृतिक मोर्चा ( विकल्प) के संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष काॅमरेड यादवचंद्र के वे बहुत अच्छे मित्र थे। वे मुझे भी बहुत स्नेह देते थे । मुजफ्फरपुर शहर के किसी भी कोने में मैं साहित्यिक आयोजन करता ,उनको जरूर आमंत्रित करता । वे समय पर पहुँच जाते । अत्यल्प उपस्थिति के कारण जब मेरा मन खिन्न हो जाता , वे हिम्मत देते और अकेले ही घंटों कविता सुनाकर एक समां बांध देते। मेरी पहली मुलाकात सन् 1995 में दिनकर जयन्ती पर सिकंदरपुर में हुई । उसके बाद आजीवन उनसे मुलाकातों का सिलसिला जारी रहा। मैं बराबर उनके घर ( आधुनिका) पर चला जाता और घंटों उनसे साहित्यिक चर्चा करता । कभी-कभी शहर के प्रतिष्ठित पत्रकार कन्हैयाशरण जी के साहू रोड स्थित घर पर जाता और वहीं राजेंद्र प्रसाद सिंह जी से भी भेंट हो जाती । 'भूमिका', 'डायरी के जन्मदिन', 'उजली कसौटी', 'शब्द यात्रा', 'प्रस्थान बिन्दु', 'अमावस और जुगनू', 'लाल नील धारा', 'गज़र आधी रात का', 'आओ खुली बयार', 'भड़ी सड़क पर ' आदि उनकी महत्वपूर्ण कृतियाँ हैं । उन्होंने पुरा जीवन साहित्य और समाज को समर्पित कर दिया । यह बड़ी बात है । ( 12 जुलाई को राजेंद्र प्रसाद सिंह की जयन्ती है । उन्हे सादर स्मरण एवं श्रद्धा-सुमन ) प्रस्तुत है उनकी एक रचना-- तांबे का आसमान , टीन के सितारे , गैसीला अंधकार , उड़ते है कसफुट के पंछी बेचारे , लोहे की धरती पर चाँदी की धारा पीतल का सूरज है राँगे का भोला-सा चाँद बड़ा प्यारा, सोने के सपनो की नौका है, गंधक का झोंका है, आदमी धुँए के हैं , छाया ने रोका है, हीरे की चाहत ने कभी-कभी टोका है, शीशे ने समझा कि रेडियम का मौका है , धूल 'अनकल्जर्ड' है, इसलिए बिकती है- -'ज़िन्दगी नहीं है यह-धोखा है, धोखा है!'

yनवगीत के प्रवर्तक ,कवि एवं साहित्यकार राजेंद्र प्रसाद सिंह अपने आप में एक साहित्यिक-सांस्कृतिक  संस्था थे।  उन्होंने मुजफ्फरपुर में अपनी प्रतिभा, मेहनत और लगन द्वारा एक ऐसा सकारात्मक माहौल तैयार किया, जिसके कारण बहुत सारे कवियों  और साहित्यकारों का जन्म हुआ । मेरे गुरु , जनवादी कवि, नाटककार,रंगकर्मी,  उपन्यासकार , एवं अखिल भारतीय जनवादी सांस्कृतिक मोर्चा ( विकल्प) के संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष  काॅमरेड यादवचंद्र के वे बहुत अच्छे मित्र थे।
       वे मुझे भी बहुत स्नेह देते थे । मुजफ्फरपुर शहर के किसी भी कोने में मैं साहित्यिक आयोजन करता ,उनको जरूर आमंत्रित करता । वे समय पर पहुँच जाते । अत्यल्प उपस्थिति के कारण जब मेरा मन खिन्न हो जाता , वे हिम्मत देते और अकेले ही घंटों कविता सुनाकर एक समां बांध देते। मेरी पहली मुलाकात सन् 1995 में दिनकर जयन्ती पर सिकंदरपुर में हुई । उसके बाद आजीवन उनसे मुलाकातों का सिलसिला जारी रहा। मैं बराबर उनके घर ( आधुनिका) पर चला जाता और घंटों उनसे साहित्यिक चर्चा करता । कभी-कभी शहर के प्रतिष्ठित पत्रकार कन्हैयाशरण जी के साहू रोड स्थित घर पर जाता और वहीं राजेंद्र प्रसाद सिंह जी से भी भेंट हो जाती ।
            'भूमिका', 'डायरी के जन्मदिन', 'उजली कसौटी', 
'शब्द यात्रा', 'प्रस्थान बिन्दु', 'अमावस और जुगनू', 'लाल नील धारा', 'गज़र आधी रात का', 'आओ खुली बयार', 'भड़ी सड़क पर ' आदि उनकी महत्वपूर्ण कृतियाँ हैं । उन्होंने पुरा जीवन साहित्य और समाज को समर्पित कर दिया । यह बड़ी बात है ।
( 12 जुलाई को राजेंद्र प्रसाद सिंह की जयन्ती है । उन्हे सादर स्मरण एवं श्रद्धा-सुमन )
   प्रस्तुत है उनकी एक रचना--
                     तांबे का आसमान ,
                      टीन के सितारे ,
                      गैसीला अंधकार ,
                       उड़ते है कसफुट के पंछी बेचारे ,
                       लोहे की धरती पर 
                       चाँदी की धारा 
                       पीतल का सूरज है
                       राँगे का भोला-सा चाँद बड़ा प्यारा,
                       सोने के सपनो की नौका है, 
                       गंधक का झोंका है, 
                       आदमी धुँए के हैं , 
                      छाया ने रोका है, 
                       हीरे की चाहत ने 
                      कभी-कभी टोका है, 
                      शीशे ने समझा 
                      कि रेडियम का मौका है ,
                       धूल 'अनकल्जर्ड' है,
                      इसलिए बिकती है-
              -'ज़िन्दगी नहीं है यह-धोखा है, धोखा है!'

No comments:

Post a Comment