Popular Posts

Friday, May 5, 2017

ग़ज़ल " कहीं न कहीं -1५" पुस्तक के अपनी बात से

मैं पता भर दिया, तुम लगे बुझने।।                               राह उसकी मुझिसे ,लगे पूछने।।                                 नभ को नभ कहा,तल को तल कह दिया।।                  मैं जता भर दिया, तुम लगे जूझने।।

No comments:

Post a Comment