Popular Posts

Wednesday, May 3, 2017

सत्य खोजने निकले थे, झूठे हीं दिवस गवां बैठे।।

सत्य खोजने निकले थे, झूठे हीं दिवस गँवा बैठे।।           प्रेम सत्य का अवलोकन, कहाँ अपना सीस नवा बैठे।।                                 जग को देखा है करीब से,                                          स्रीजन का रुप गजब पाया।                                     जिसने मेरी बाँहे थामीं,                                             स्वयं देख सहज गाया।।             चल जा राह बनी है जो भी, देख देख सकुचा बैठे।।                 

No comments:

Post a Comment